Permalink
Switch branches/tags
Nothing to show
Find file Copy path
Fetching contributors…
Cannot retrieve contributors at this time
24 lines (17 sloc) 5.56 KB

कोड नीति-घोषणा

हम ऐसे वातावरण में काम करना चाहते हैं जो कार्यकर्ताओं को अपनी क्षमता सार्थक करने में सशक्त करे – जो हमें उन्नति और मिलकर काम करने के लिए प्रोत्साहित करे। ऐसी जगह जहाँ सब सुरक्षित महसूस करें।

ऐसी जगह से सभी सहभागी लाभान्वित होते हैं। नए कार्यकर्ता को हमारे इस उद्योग क्षेत्र में शामिल होने का हौसला मिलता है। परस्पर चर्चा और साथ काम करने से हम आगे बढ़ते हैं और विकास के ज़रिए हममें सुधार आता है।

ऐसी जगह को प्रत्यक्ष करने के प्रयास में, हम इन संस्कारों को अपनाते हैं –

  1. भेदभाव हमें सीमित करता है। इस भेदभाव में जाति, लिंग, उम्र, धर्म, राष्ट्रीयता या किसी भी और मनमाने आधार पर किसी व्यक्ति समुदाय के प्रति बहिष्कार शामिल है।
  2. आदरणीय सीमाओं में हमारा सम्मान है। जो आपके लिए सहज और ठीक है, वह सभी के लिए नहीं है। यह याद रखें और अगर ऐसी बात आपके समक्ष लाई जाए तो उसपर गौर करें।
  3. हम हमारी सबसे बड़ी निधि हैं। हममें से कोई भी, जनमते से अपने काम में निपुण नहीं होता। हम सभी को, हमारी राह में किसी न किसी की मदद मिली है। इस अनुग्रह की कड़ी को आगे बढ़ाएं, जब और जैसे सम्भव हो।
  4. हमारे भविष्य का साधन हम हैं। बिन्दु #3 के विस्तार में – जो आप जानते हैं, औरों के संग बांटें। जो आपके बाद आए हैं उनके लिए साधन बनें।
  5. आदर से हमारी परिभाषा है। दूसरों के संग वैसा आचरण करें जैसा आप उनसे पाना चाहते हैं। अपनी चर्चा और आलोचनाओं को आदरानुसार पेश करें। अपने से पूछिए: क्या यह सच है? क्या यह ज़रूरी है? क्या यह सकारात्मक है? इससे कम कुछ भी अस्वीकार्य है।
  6. प्रतिक्रिया में शालीनता आवश्यक है। रुष्ट प्रतिक्रिया जायज़ है पर अपमानजनक वाणी और प्रतिशोधपूर्ण कर्म जहरीले होते हैं। अगर कुछ ऐसा हो जिससे आपका अपमान हो, तो उसका दृढ़ता से मगर आदर सहित जवाब दें। उच्च अधिकारी के समक्ष बात को यथोचित रूप से रखें, और कोशिश करें कि अपराधी को अपनी सफ़ाई देने का और अपराध को सुधारने का मौका मिले।
  7. राय बस वही है: राय। हम सभी के राय हमारी परवरिश और वातावरण के अनुसार भिन्न होते हैं। सच यह है कि यह भिन्नता बिल्कुल मान्य है। याद रखें: आप अगर अपनी राय का आदर करते हैं तो आपको अन्य की राय का भी आदर करना चाहिए।
  8. इन्सान से ग़लती हो जाती है। आपका उद्देश्य न हो, पर ग़लतीयाँ होती हैं। सच्ची ग़लती को सहनशीलता से लें, और अगर आपसे ग़लती हो तो माफी मांगने में संकोच न करें।

योगदान देने की विधि

यह एक सहयोगपूर्ण पहल है। गिटहब में "पुल रिक्वेस्ट" के ज़रिए हम सभी योगदान का स्वागत करते हैं।

(शब्द चुनाव और लेखनी सम्बन्धित योगदान भी आमंत्रित है)